* मुखपृष्ठ * * परिचय * * टैली इनर्जी * * रोमन-हिन्दी * * महाशब्दकोश * * कनवर्टर * * हिन्दी पैड * * संपर्क *
" जीवन पुष्प में आप सभी का हार्दिक स्वागत है "

" प्रकृति की गोद में खिला एक सुंदर कोमल पुष्प कली से फूल बनकर अपने सम्पूर्ण वातावरण को सुगन्धित करने का ध्येय रखते हुये कभी गर्मियों की तपिश, तो कभी बरसातों की बौछार, तो कभी शर्दियों की ठिठुरन और ना जाने क्या क्या सहकर ये अपने अस्तित्व को कायम रखने के लिए हर संभव कोशिश करता है। ये आने वाली पीढ़ी का सृजन कर मुरझाकर सूख जाता है और धरती पे गिरकर मिट्टी में विलीन हो जाता है। हमारा संपूर्ण मानव जीवन भी एक पुष्प के समान है...। "

Followers

10 July, 2015

रंग-बेरंग

कब सुन पाउँगा फिर 
अम्मा की वो लोरी,
खाली हो चूका है   
किस्से की तिजोरी !
सुनते थे दास्ताँ कभी
चुप-चाप परियों की,
अब सुनते है सिर्फ
टिक–टिक घड़ियों की !
आधी रातों में उठकर
बैठ जाते है अक्सर,
कब मुमकिन होगा फिर 
आँचल का मयस्सर...!


आ गये कितने दूर
छोड़ कर वो बचपन
अब छुट चुका पीछे   
सच्चाई, कोमलपन
हूँ यहाँ शहर में
लोंगों की शोर में
सच्ची मुहब्बत नहीं
सच्ची ईबादत नहीं
बस स्पर्धाओं का
हर तरफ जंग है
ज़िन्दगी रंग कभी,
जिंदगी बेरंग है ...!

No comments:

लिखिए अपनी भाषा में...

जीवन पुष्प

हमारे नये अतिथि !

Angry Birds - Prescision Select