* मुखपृष्ठ * * परिचय * * टैली इनर्जी * * रोमन-हिन्दी * * महाशब्दकोश * * कनवर्टर * * हिन्दी पैड * * संपर्क *
" जीवन पुष्प में आप सभी का हार्दिक स्वागत है "

" प्रकृति की गोद में खिला एक सुंदर कोमल पुष्प कली से फूल बनकर अपने सम्पूर्ण वातावरण को सुगन्धित करने का ध्येय रखते हुये कभी गर्मियों की तपिश, तो कभी बरसातों की बौछार, तो कभी शर्दियों की ठिठुरन और ना जाने क्या क्या सहकर ये अपने अस्तित्व को कायम रखने के लिए हर संभव कोशिश करता है। ये आने वाली पीढ़ी का सृजन कर मुरझाकर सूख जाता है और धरती पे गिरकर मिट्टी में विलीन हो जाता है। हमारा संपूर्ण मानव जीवन भी एक पुष्प के समान है...। "

Followers

06 October, 2011

उन्हें ढूंढ़ती मेरी आंखें

उन्हें ढूंढ़ रही आंखें तरसकर
नदी किनारे
बरस बरसकर
गिरती पलकें थक हारकर
  करुण वेदना 
का अश्रु बहाकर।


याद बहुत आती है मुझको
मेरी मुहब्बत
, मेरी जान
मैं अब भी वही पर ढूंढ़ रहा हूं 
उनके कदमों का निशान...

व्याकुल मन से गले लगाकर,
रखकर मेरे हाथों में हाथ
यहीं तड़पकर छोड़े थे वो,
मेरे जीवन का अंतिम साथ।


प्रेम के शत्रु घात लगाये
रहते थे हरदम तैयार
,
इस कार, हमदोनो मिलने
एक दिन आये
थे, नदी के पार।

हमदोनो की हंसी ठिठोली
कुछ पल सुहाने
, बीते थे संग
अचानक चीखे
, वो पैर पटककर
काट लिया जो उन्हें भुजंग।

  गोद में लेटे तड़प रहे थे
वो पल पल हुये निढाल
,
  नाकाम हुई थी हर कोशीश
मैं भी था बेबस और बेहाल।

नैनों से धारा छूट रही थी
सासों की लड़ीया टूट रही थी
जिंदगी उनकी रुठ रही थी

मौत आकर लूट रही थी।


निर्जल अधर सब सूख रहा था
व्याकुल आत्मा घूट रहा था
ढलता सूरज डूब रहा था।


उनके अंतिम शब्दों का तराना
कह गये मुझको भूल ना जाना

छोड़ चला मैं तेरा जमाना
मेरे बाद , यहां तुम रोज आना।

मैं नही  मेरी याद सही,
तुम उसे ही गले लगाते रहना
बुझ ना पाये मेरे प्यार का दीपक,
तुम आकर इसे जलाते रहना...।

2 comments:

Vibha Saurav Kumar said...

touching.........

avanti singh said...

bahut achi rachna hai...bdhaai....

There was an error in this gadget

लिखिए अपनी भाषा में...

जीवन पुष्प

हमारे नये अतिथि !

Angry Birds - Prescision Select