* मुखपृष्ठ * * परिचय * * टैली इनर्जी * * रोमन-हिन्दी * * महाशब्दकोश * * कनवर्टर * * हिन्दी पैड * * संपर्क *
" जीवन पुष्प में आप सभी का हार्दिक स्वागत है "

" प्रकृति की गोद में खिला एक सुंदर कोमल पुष्प कली से फूल बनकर अपने सम्पूर्ण वातावरण को सुगन्धित करने का ध्येय रखते हुये कभी गर्मियों की तपिश, तो कभी बरसातों की बौछार, तो कभी शर्दियों की ठिठुरन और ना जाने क्या क्या सहकर ये अपने अस्तित्व को कायम रखने के लिए हर संभव कोशिश करता है। ये आने वाली पीढ़ी का सृजन कर मुरझाकर सूख जाता है और धरती पे गिरकर मिट्टी में विलीन हो जाता है। हमारा संपूर्ण मानव जीवन भी एक पुष्प के समान है...। "

Followers

02 October, 2011

एक अलग एहसास


कभी तुम गुमसुम होकर देखो
कभी तन्हा में रोकर भी देखो।

राहों में गुलशन की
चाहत है सबको,
कभी तुम काटों पे सोकर भी देखो।



संभल - संभल कर
चलते सभी है,
 कभी खुद को लगाकर, ठोकर भी देखो।
 

रिमझिम बारिश में, सब भींगते है
कभी अश्कों में खुद को  डूबोकर भी देखो।
 
जल के फुहारों से
निखरता है चेहरा,
कभी तुम अश्कों से धोकर भी देखो।

जोड़ते हैं लोग रिश्ते अपनों से अकसर
,
कभी तुम गैरों का होकर भी देखो।

बिछुड़ने का दर्द
होता है कितना,

कभी तुम अपनों को खोकर भी देखो।

लोग हकीकत में तो
रोज मिलते है,
कभी
तुम एहसासो में छू कर भी देखो।

2 comments:

sushma 'आहुति' said...

लोग हकीकत में तो रोज मिलते है,
कभी तुम एहसासो में छू कर भी देखो।dil ko chu gayi panktiya...

avanti singh said...

waah! kya baat hai....

There was an error in this gadget

लिखिए अपनी भाषा में...

जीवन पुष्प

हमारे नये अतिथि !

Angry Birds - Prescision Select