* मुखपृष्ठ * * परिचय * * टैली इनर्जी * * रोमन-हिन्दी * * महाशब्दकोश * * कनवर्टर * * हिन्दी पैड * * संपर्क *
" जीवन पुष्प में आप सभी का हार्दिक स्वागत है "

" प्रकृति की गोद में खिला एक सुंदर कोमल पुष्प कली से फूल बनकर अपने सम्पूर्ण वातावरण को सुगन्धित करने का ध्येय रखते हुये कभी गर्मियों की तपिश, तो कभी बरसातों की बौछार, तो कभी शर्दियों की ठिठुरन और ना जाने क्या क्या सहकर ये अपने अस्तित्व को कायम रखने के लिए हर संभव कोशिश करता है। ये आने वाली पीढ़ी का सृजन कर मुरझाकर सूख जाता है और धरती पे गिरकर मिट्टी में विलीन हो जाता है। हमारा संपूर्ण मानव जीवन भी एक पुष्प के समान है...। "

Followers

31 October, 2011

कसक...

  कुछ लम्हें कचोटता है
  वो खुलकर मिलने का
  कांधे पे रख के हाथ
  तेरे साथ चलने का...।


  वो शाम सिंदूरी में 
  नदी तट पे टहलने का
  भूल जाते थे हमतुम
  जो सूरज ढलने का...।

बंद जो करती थी
  आंखे मेरी तू  झट से...
  मैं पहले ही जान लेता था,
  तेरे कदमों की आहट से...

फिर भी अनजान  होकर, 
  तेरे हाथो को टटोलता था
  अपनी दबी आरजू को
  हौले से उड़ेलता था

  आज भी तेरी खातिर
  मेरा मन तड़पता है
  हर तरफ मुझे अब, 
  सन्नाटा  दिखता है
  हर ख्वाब भी रातों को  
     उपहास  ही करता है...

गम है तुम्हे पाकर
  फिर से खोने का...
  कितना असर है जीवन  में, 
  तेरे ना होने का...
  फर्क तो होगा ही
  अंधेरा होने का... 
  फिर इंतजार  है आखों को
  एक सवेरा होने का... 


  जब- जब हवा में 
  पर्दा हिलता है,
  तेरे आने की आहट से
  दीया उम्मीद का जलता है
  फिर बुझ जाता  है पल भर में, 
  सिर्फ एक साया दिखता है...

अब व्याधूत मन मेरा
  बुला रहा है थककर
  कब  रहगुजर होगी   
  तुम अपने प्रेम पथ पर...? 
  मैं प्रतीक्षारत  हूं  आज भी
  खिड़की से  लगकर...  

56 comments:

सदा said...

बहुत बढि़या ।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत खूब!

सादर

संजय भास्कर said...

हरेक पंक्ति बहुत मर्मस्पर्शी है। कविता अच्छी लगी ।

संजय भास्कर
आदत....मुस्कुराने की
पर आपका स्वागत है
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
सूचनार्थ!

प्रेम सरोवर said...

आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेर नए पोस्ट "अपनी पीढ़ी को शब्द देना मामूली बात नही है " पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

अभिषेक मिश्र said...

सुन्दर रचना. स्वागत.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूबसूरती से मन के एहसास लिखे हैं ... सुन्दर रचना

Anil Avtaar said...

वाह..! क्या खूब लिखा है आपने..! बहुत ही गहराई से मन में उतरकर अपने भाव उकेरे हैं.. बधाई..

आप हमारे ब्लॉग पर आये, मेरा हौंसला बढाया , बहुत-बहुत धन्यवाद.. आते रहिएगा, स्वागत है..

NISHA MAHARANA said...

very expressive n touching post.

Atul Shrivastava said...

गहरे अहसास।
सुंदर प्रस्‍तुति।
आभार.....

Sadhana Vaid said...

संवेदना से भरपूर बेहद भावमयी रचना ! मन के कोमल अहसासों को खूबसूरती के साथ अभिव्यक्ति दी है ! बहुत सुन्दर !

vandana said...

सुन्दर रचना

ऋता शेखर 'मधु' said...

मनोभाव की बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

pradeep tiwari said...

neelu ji bahut hi achhchha likhate hai ap..bhut hi sundar abhivakti haii...bahut bahut badhaiho ap ko sundar rachana ke liye

रश्मि प्रभा... said...

achhi rachna , komal lamhe

राहुल पंडित said...

सुन्दर कविता,बधाई

anju(anu) choudhary said...

प्यार और जुदाई का मिला जुला समावेश ....बहुत खूब

इमरान अंसारी said...

सबसे पहले हमारे ब्लॉग 'जज्बात....दिल से दिल तक' पर आपकी टिप्पणी का तहेदिल से शुक्रिया.........आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ...........पहली ही पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब...........आज ही आपको फॉलो कर रहा हूँ ताकि आगे भी साथ बना रहे|

कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए- (अरे हाँ भई, सन्डे को भी)

http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
http://khaleelzibran.blogspot.com/
http://qalamkasipahi.blogspot.com/


एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

संध्या शर्मा said...

फिर इंतजार है आँखों को एक सबेरा होने का...
दिल को छू रही है आपकी रचना... ख़ूबसूरत लम्हे

दिलबाग विर्क said...

सुंदर लम्बी कविता

अशोक कुमार शुक्ला said...

फर भी अनजान होकर, तेरे हाथो को टटोलता था अपनी दबी आरजू को हौले से उड़ेलता था।
bahut sundar bhaw hai.
Shayad unhen bhi iska ahsas raha ho.....!

श्रीप्रकाश डिमरी /Sriprakash Dimri said...

कितना असर है जिंदगी में तेरा ना होना....
अत्यंत भाव पूर्ण अभिव्यक्ति....कोमल बिम्बों का अत्यंत सहज प्रयोग....शुभ कामनायें !! मेरे ब्लाग पर स्नेह प्रेषित करने हेतु अभिनन्दन !!!

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

मन के संवेदनशील भाव ....

सागर said...

bhaut hi khubsurat rachna...

निर्झर'नीर said...

बहुत सुन्दर लगा आपका ब्लॉग
..लेखन के साथ साथ देखने में भी
दीया उम्मीद की जलता है इस पंक्ति में........की नहीं का सही लगता है ..शुभकामनायें

मनीष कुमार ‘नीलू’ said...

निर्झर जी बहुत अच्छा लगा आपका आना ...
और ध्यान दिलाने के लिये धन्यबाद !

Dr.Nidhi Tandon said...

मनीष...कथनानुसार मैं आ गयी..आपके ब्लॉग पर...अच्छालगा...इस कविता में आपने बड़ी खूबसूरती से मनोभावों को शब्दों में पिरोया है ...बधाई !१

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

VIYOG VYTHA KI HRIDAYSPARSHI PRASTUTI.

Ram Swaroop Verma said...

Bahut achhi rachna
behatreen

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

वाह!

amrendra "amar" said...

bahut hi khubsurat abhivyakti ,,badhai

मदन शर्मा said...

बहुत सुन्दर लिखा है आपने आपको मेरी हार्दिक शुभ कामनाएं !!

JHAROKHA said...

manish ji
bahut bahut bahut hi behatreen lagi aapki yah anmol kriti.aapkeblog par pahli baar aai hunpar lagta hai ki ab baar -baar aana hoga.aapki is rachna ne man ko jo moh liya hai----;)
hardik badhai--are han ! mere blog par aakar aapne apna samarthan diya.sach!bahut hi achcha laga.
punah badhai swikaren
dhanyvaad sahit
poonam

अनुपमा पाठक said...

सुन्दर रचना!

POOJA... said...

waah... bahut sundar rachna...
kasak kuch aisi hi to hoti hai...

ASHA BISHT said...

हृदय स्पर्शी रचना .....
आप मेरे ब्लॉग पर आये आपका आभार..

अभिव्यंजना said...

बहुत सुंदर ! भावों की उत्तम अभिव्यक्ति | अभिव्यंजना में आपका स्वागत है |

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...






प्रिय बंधुवर मनीष कुमार नीलू जी
सस्नेहाभिवादन !

मैं प्रतीक्षारत हूं आज भी …

सुंदर कविता के लिए बधाई
मंगलकामनाओं सहित…
- राजेन्द्र स्वर्णकार

Vaneet Nagpal said...

आपकी इस रचना को काव्य मंच पेज पर लिंक किया जा रहा है |

टिप्स हिंदी में
शादी.काम

Babli said...

ख़ूबसूरत भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.com/

प्रेम सरोवर said...

आपके पोस्ट पर आना सार्थक लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । सादर।

नीरज गोस्वामी said...

मनीष जी, इस भावपूर्ण रचना के लिए मेरी बधाई स्वीकारें

नीरज

प्रेम सरोवर said...

Please view my complete profile.Thanks.

रजनीश तिवारी said...

अच्छी रचना ...आभार

दिगम्बर नासवा said...

प्रेम की गहरी अनुभूति से निकली रचना ... बहुत ही अच्छी रचना है ...

आशुतोष की कलम said...

इंतजार और आस को सुन्दर शब्दों में पिरोया है आप ने ..ये भावाभिव्यक्ति बहुत सुन्दर लगी..

अभिषेक मिश्र said...

बहुत ही सुन्दर रचना.

Er. सत्यम शिवम said...

मनीष जी...बहुत ही सुंदर रचना और साथ ही बहुत ही मनमोहक और खुबसूरत ब्लाग बनाया है आपने..प्यारे घर की तरह सजाया है.....अपने कविताओं का घर..जहाँ हर शब्द आराम से बेफिक्र होकर रह सके....यूँही निरंतर लिखते रहिये....ऊँचाईयों को प्राप्त किजीये...मेरी शूभकामनाएं सदा आपके साथ है.....बधाई।

Ankur jain said...

बहुत लाजवाब प्रस्तुति...वधाई

Mamta Bajpai said...

बहुत बढ़िया ..बधाई

Reena Maurya said...

very nice
very heart touching poem..

Amrita Tanmay said...

उम्मीद का दीया यूँ ही जलता रहे.बहुत ही अच्छा लिखा है .साँस रोक कर पढ़ती रही.

SHASHI PANDEY said...

bahut khoob, bahut umda ...

mridula pradhan said...

bahut sunder hain aapki yaden......

Rakesh Kumar said...

वाह! बहुत सुन्दर.
अनुपमा जी की संगीतमयी हलचल का 'ग' सुर बनी यह प्रस्तुति
बहुत अच्छी लगी.

मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है,मनीष जी.

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

वाह!! सुन्दर भाव... बढ़िया रचना.
सादर
.

There was an error in this gadget

लिखिए अपनी भाषा में...

जीवन पुष्प

हमारे नये अतिथि !

Angry Birds - Prescision Select